श्री दादाजी दरबार खंडवा में दर्शन कोरोना महामारी के कारण प्रशासन द्वारा तय नियमों के अनुसार होंगे. । श्री दादाजी दरबार खंडवा में मनाए जाने वाले इस वर्ष के प्रमुख पर्वों की तिथियां

श्री धूनीवाले दादाजी की स्तुति

ध्यायेन्नित्यं कृपासिंधुं, सच्चिदानंदम प्रदयाकम| योगेश्वरम, विदेहम चप्रज्ज्वालित अग्नि प्रियकरम्||

अग्रगण्यं दादाजीं, इन्द्रियजितं दिगंबरम्| हरिहरस्य गुरुदेवं, केशावानंदं नमाम्यहम्||


अर्थ – कृपा के सागर सद्चित आनंद प्रदान करने वाले श्री दादाजी का सदा ध्यान करें. आप योगेश्वर एवं विदेही हैं, आपको धूनी अत्यंत प्रिय है. बड़े दादाजी ने इन्द्रियों को जीत लिया है. आप दिगंबर अवस्था में रहते हैं. हरिहर भोले भगवान के गुरुदेव श्री केशवानंद जी को मैं प्रणाम करता हूँ.

आमुख

यह श्री धूनिवाला आश्रम पब्लिक ट्रस्ट खंडवा की आधिकारिक वेबसाइट है.श्री दादा दरबार खंडवा ,श्री १००८ श्री बड़े दादाजी महाराज एवं श्री १००८ श्री छोटे दादाजी महाराज का मूल समाधी स्थल है .

श्री १००८ श्री बड़े दादाजी महाराज ने यहाँ मार्गशीर्ष सुदी १३ दिनांक ३ दिसंबर १९३० को समाधी ली एवं श्री १००८ श्री छोटे दादाजी महाराज ने फाल्गुन सुदी पंचमी तदनुसार दिनांक ५ फ़रवरी १९४२ को समाधी ली .

श्री दादा दरबार में दोनों समाधी स्थल पर भव्य मंदिर निर्मित हैं जो की सेवा पूजन समय को छोड़ कर २४ घंटे भक्तों के लिए खुला रहता है .

श्री धूनिवाला आश्रम पब्लिक ट्रस्ट खंडवा,श्री १००८ श्री छोटे दादाजी महाराज द्वारा स्थापित मूल संस्था है तथा इससे सम्बंधित और कोई संस्था नहीं है.

इस वेबसाइट के माध्यम से सभी दादा भक्तों तक दरबार की गतिविधियों एवं श्री दादाजी महाराज के विषय में जानकारी पहुँचाने का प्रयास किया जा रहा है .

गुरु पूर्णिमा झलकियाँ



1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12

प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी श्री गुरुपूर्णिमा का उत्सव धूमधाम से मनाया गया प्रस्तुत हैं कुछ झलकियां .

श्री बड़े दादाजी कि बरसी

श्री १००८ बड़े दादाजी महाराज ने मार्गशीर्ष सुदी १३ दिनांक ३ दिसंबर १९३० को खंडवा में समाधी ली थी इस अनुसार श्री दादा दरबार खंडवा में श्री बड़े दादाजी महाराज की बरसी प्रतिवर्ष श्रद्धापूर्वक मनाइ जाती है .इस वर्ष भी नियम अनुसार इस अवसर पर श्री बड़े दादाजी की महा आरती एवं बड़ा हवन किया गया .

श्री दादा दरबार में श्री दादाजी की बरसी पर भंडारा का आयोजन किया जाता है .इस वर्ष भी वृहत पैमाने पर भंडारा हुआ जिसमे लगभग ३००० लोगो ने भोजन प्रसादी प्राप्त की, यह भंडार रात्रि १० बजे से मध्यरात्रि तक चला.